About-Us

हमने गंगरार की वेबसाइट कैसे, क्यों और किस लिए बनाई

नमस्कार साथियों, आज हम आपके साथ अपनी बात साझा कर रहे है। की हमने गंगरार गांव की वेबसाइट क्यों और किस लिए बनाई। दोस्तों बात कुछ ऐसी है की हम हमेशा ही कुछ नया सिखने की चाह रखते है। ऐसा ही कुछ हमारे साथ भी हुआ साल की में 2017 में उदयपुर गया और डिजिटल मार्केटिंग की पढ़ाई की और वहॉ काम करने लगा। वही मेरी मुलाकात मेरे साथी मित्रो से हुई जिनमे गजेंद्र सिंह राणावत जी, मनदीप शर्मा जी, और मेरे गुरु या मेरे बॉस हितेन्द्र सिंह राठौर जी मुझे मिले। हम लोग एक साथ ही उदयपुर की प्रसिद्ध वेब डेवलपमेंट कंपनी 3i Planet में काम करते थे।

वैसे तो हम चारों में से गजेंद्र जी और मनदीप जी वेब डिज़ाइन का काम करते थे एवं में और हितेंद्र जी SEO का काम करते थे। हम सब अपने काम के टिप्स एक दूसरे के साथ शेयर करते रहते थे। जिससे अगर कभी जरुरत पड़े तो हम भी एक दूसरे का काम कर सके।

हम लोग ऐसे ही वेबसाइट के बारे में बात कर रहे थे तो मेरे मित्र हितेन्द्र सिंह जी ने कहा की आप भी अपनी वेबसाइट बना सकते हो, तो मेने उनसे पूछा की कैसे हम वेबसाइट बना सकते है। क्योकि मुझे इससे पहले कभी मालूम नहीं था की हम वेबसाइट बना सकते है। तो उन्होंने उनकी खुद की वेबसाइट हमें दिखाई और बोले अगर कोई अच्छी जगह हो या खुद का कोई काम हो तो आप उसकी वेबसाइट बना सकते है। उस समय उन्होंने अपने गृह जिले डूंगरपुर की वेबसाइट बनाई हुई थी

हमने उनकी वेबसाइट देखी और फिर हमने सोचा की क्यों न अपने गांव की वेबसाइट बना ली जाए जिस पे गंगरार की और आसपास की सभी जानकारी उपलब्ध करा सके। बस यही सोच कर हमने 2018 में Gangrar.com खरीद लिया। उसके बाद हमने वेबसाइट को डिज़ाइन करना शुरू किया। जिसमे गजेन्द्र सिंह जी और मनदीप जी ने भी पूरा सहयोग किया बाद में वेबसाइट को हितेंद्र जी ने खुद की होस्टिंग पर होस्ट किया। जिससे वेबसाइट ऑनलाइन हो गई और हम सब ने इसे सब के लिए चालू कर दिया था

हमने गंगरार की वेबसाइट में गंगरार के आसपास की विशेष जानकारी एवं दार्शनिक स्थल भी दर्शाये हे। जिनके बारे में जानकर आप सभी को बहुत ही अच्छा लगेगा, और हमने वेबसाइट के ऊपर एक व्यवसाय जोड़ने का विकल्प भी उपलब्ध करवाया हे जिससे हमारे गंगरार के और आसपास के व्यापारी बंधू अपने व्यवसाय की जानकारी इस वेबसाइट के जरिये सभी तक पंहुचा सके। अभी हमने यह सुविधा बिलकुल मुफ्त में उपलब्ध करवाने की योजना बनाई हुई हे। तो जो भी अपना व्यवसाय की फ्री में ऐड करना चाहता हो वो आज ही हमारी वेबसाइट पर आके अपना व्यवसाय जोड़ सकता है

उसके बाद से हम निरंतर वेबसाइट को अच्छी बनाने का प्रयास करते रहते हे। हमें जो भी जानकारी उपलब्ध होती हे हम उसे सबके साथ शेयर करते हैं हमें आशा हे की आपको वेबसाइट पर दी गई जानकारी पसंद आई होगी। कृपया अपनी प्रतिक्रिया अवश्य देवें

हम कौन है आइए जानते हैं हमारे बारे में


नमस्ते मित्रो आइए जानते हैं मेरे दोस्त और बॉस हितेंद्र सिंह जी राठौर के बारे में ये डूंगरपुर जिले की सागवाड़ा तहसील के रहने वाले हे। हमारी मुलाकात उदयपुर में हुई और मेने इनसे बहुत कुछ सीखा जिसकी मुझे उस समय जरुरत थी। में इनकी जितनी तारीफ करू वो कम हे। वैसे तो हम दोस्त हे लेकिन में इनको मेरा गुरु ( बॉस ) समझता हु,

दोस्तों जैसा मेने ऊपर बताया हे की इनके सहयोग से ही मेने अपने गांव की वेबसाइट को बनाया हे और आप सभी तक पहुंचाया हे इन्होने ही मुझे इस वेबसाइट को बनाने के लिए प्रेरित किया और पूरा सहयोग देकर इस वेबसाइट को डिज़ाइन करवाया हे। इन्होने खुद का वेब डिज़ाइन और डेवलपमेंट कार्य शुरू किया हे जिसे आप इनकी वेबसाइट के माध्यम से जान सकते हे और इनके बारे में अधिक जानने के लिए यहां पर जाये। धन्यवाद्

हेलो दोस्तों मेरा नाम राहुल ( नोग्या ) गालव हे में गंगरार गांव का ही रहने वाला हु। मेरी शिक्षा दीक्षा सब गंगरार से ही हुई हे। में गंगरार गांव में पूर्बिया गालव त्यागी समाज से आता हु। मेरा घर गंगरार गांव में ही स्थित हे मेने ही यह वेबसाइट बनाई हे। जिससे की आपको गंगरार को समझने में आसानी हो सके और अगर फिर भी कोई त्रुटि रह गई हो तो आप निसंकोच हमें सूचित कर सकते हे हम सदैव सेवा में तत्पर हे।

विशेष कर गंगरार वालो और गंगरार को सभी लोग जान सके इसके लिए हमने यह कार्य किया हे। और आप सभी को गंगरार के बारे में जानकर केसा लगा एवं अगर आपके पास कोई ऐसी जानकारी हो जो आप यहां साझा करना चाहते हे तो आप हमसे संपर्क कर सकते हे हम गंगरार और गंगरार के आसपास की सभी रोचक जानकारी को इस प्लेटफॉर्म पर उपलब्ध करना चाहते हे। जिससे हमारे गांव के बारे में लोग जान सके और समझ सके। धन्यवाद्

2 Comments

  1. Gajendra says:

    Gangrar Fort and temple of ganesh made by khatana Gurjars.. So add this also

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *